आईएस शैलेश कुमार यादव का तबादला | IAS SHAILESH KUMAR YADAV

शादी समारोह में दूल्हा दुल्हन , और  पंडित और मेहमानों समेत महिलाओ से जमकर अभद्रता करने वाले पश्चिम त्रिपुरा के पूर्व जिलाधिकारी शैलेश कुमार यादव (IAS SHAILESH KUMAR YADAV) का सरकार ने बुधवार को तबदाला कर दिया | डीएम के अशिस्त्ष्ट आचरण के खिलाफ दायरा याचिका पर सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट द्वारा नाराजगी जतए जाने पर सरकार ने आनन -फानन में शैलेश यादव का तबदाला कर दिया उत्तर प्रदेश के आंबेडकर नगर जिले के मूल निवासी शैलेश कुमार यादव त्रिपुरा में पश्चिम त्रिपुरा जिले के डीएम पड़ पर में पश्चिम त्रिपुरा जिले डीएम पद पर तैनात थे | बीती 26 अप्रैल को कोरोना गाईड लाइन्स का पालन करने के नाम पर उन्होंने दो शादी समारोह में दल -बल के साथ धावा बोलकर जमकर उत्पात मचाया था , दुल्हन की माँ ने जब उन्हें शादी समोराह की अनुमति का पत्र दिखाया तो उन्होंने उसे फाडकर उनके मुह पर फेक दिया , दुल्हे को धक्का देकर कमरे से बाहर करने के बाद स्टेज से दुल्हन भी खदेड़ दिया | मंडप में बैठे बुजुर्ग पंडित को थपड मारकर भगा इडया इनके साथ मौजूद पुलिस वाले भी पीछे नही रहे और एक -एक मेहमान को डंडे , लात और थप्पड़ मारकर भगाने लगे |

आईएस स शैलेश का पारा इस बात पर चढ़ गया था की शादी दस बजे के बाद तक क्यों  जरी है , इसके बाद वो महिलाओ के कमरे में घुस गए और वहा अंग्रेजी -हिदी में  मेहमानों को गावर और जाहिल कहने लगे एक बुजुर्ग ने बात संभालीनि चाही तो उन्हें लोकसेवक के कार्य में बाधा डालने के आरोप में हिरासत में लेने का फरमान दूना दिया | उनकी पत्नी ने जब बख्स देने की चिरोरी की तो उनके साथ भी अभद्रता कर दी |  इसी तरह जिसने भी उन्हें समझाना चाहा सबको हिरासत में लेने का आदेश देते रहे |

दक्षिण त्रिपुरा जिले के मुख्यालय बेलोनिया में पोस्टिंग दी गई

मुख्य सचिव मनोज कुमार से जानकारी लेने के बाद अदालत को बतया की शैलेश कुमार यादव को दक्षिण त्रिपुरा जिले के मुख्यालय बेलोनिया में पोस्टिंग दी गई है | उन्हें अभी तक बेलोनिया में कोई पद आवंटित नही किया गया है | यह शहर अगरतला से 110 किलोमीटर दूर है |

Advertisement

मुख्यमंत्री ने किया था जाँच सिमित का गठन

उल्लेखनीय है मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने 27 अप्रैल को इस मामले में एक जाँच सिमित का गठन किया था जिसमे दो वरिष्ट आईएस शामिल है , उधर हाई कोर्ट ने जाँच में निष्प बरकरार रखने के लिए तीसरे सदस्य के रूप में सेवानिवृत जिले जज सुभाष सिकदर को शामिल करने का आदेश दिया है , पीठ ने याचिकाकर्तायो और सरकार से हलफनामा दाखिल कर us रात कई महिलाओ की गिरफ्तारी को लेकर स्तिथ स्पस्ट करने को कहा है क्योकि क़ानूनी तौर पर शाम छह बजे के  बिच किसी महिला को गिरफ्तार नही किया जा सकता|

Advertisement

 

Rate this post

Leave a Comment

%d bloggers like this: